Breaking News

गले के इन्फेक्शन से छुटकारा पाने के लिए करे ये उपाय | Throat Infection



गले के इन्फेक्शन से छुटकारा पाने के लिए करे ये उपाय | Throat Infection | By Fitness Clues


Throat Infection: गले में इन्फेक्शन वायरस (Infection Virus) बैक्टीरिया (Bacteria) के कारण हो सकता है  जिस कारण गले में दर्द, सूजन जलन रहती है। इस संक्रमण (Infection) में गले में दर्द, खांसी और बुखार जैसी समस्याएं हो सकती है। गले में इन्फेक्शन (Throat Infection) बैक्टीरिया के कारण हुआ है, तो इसे एंटीबायोटिक (Antibiotic) द्वारा आसानी से दूर किया जा सकता है। आपके गले का परीक्षण करने के लिए डॉक्टर द्वारा कुछ सवाल पूछे जाएंगे । इसके बाद ही डॉक्टर आपको टेस्ट करवाने की सलाह देंगे। गले के इन्फेक्शन (Throat Infection) को दूर करने के लिए कुछ घरेलू उपाय जैसे- लहसुन, अदरक और शहद का सेवन तथा हल्के गर्म पानी से गरारे करने से भी दूर हो सकता है।











Throat Infection,throat infection treatment in ayurveda
Throat Infection

जाने क्या है गले में इन्फेक्शन / What is throat infection


यह गले में होने वाला इनफेक्शन (Throat Infection) है, जो बैक्टीरिया या वायरस के कारण ही हो सकता है। यह समस्या छोटे बच्चे या उन व्यक्तियों को होती है, जिनकी प्रशिक्षण प्रणाली कमजोर हो जाती है।

➤ Diabetes Symptoms | ये है डायबिटीज के शुरुआती लक्षण, जानें इलाज के उपाय

गले में इन्फेक्शन के लक्षण / Sign of Throat Infection


➧बुखार का रहना / A Fever
➧गले में दर्द होना / Sore Throat
➧टॉन्सिल में मवाद बनना / Tonsils
➧गले में दर्द होना / Pain in Throat
➧टॉन्सिल में छाती पर हल्के लाल रंग के चकत्ते दिखाई देना / The light colored rash on the chest in the tonsils
➧मुंह के अंदर छाले / Blisters Inside the Mouth
➧खाना निगलने में परेशानी होना / Trouble eating
➧लगातार सिरदर्द का रहना / Persistent headache
➧ठंड महसूस होना / Feel cold
➧भूख कम लगना / Loss of appetite
➧कब लें डॉक्टर से परामर्श / When to Consult Doctor
➧यदि आप को गले में दर्द हो या सफेद धब्बे दिखाई दे / If You Have Sore Throat or White Spots
➧गले में बार-बार संक्रमण रहे / Frequent Infection in the Throat
➧सांस लेने में कोई परेशानी हो / Have Trouble Breathing
➧मुंह खोलने में दिक्कत हो / Trouble Opening Mouth
➧बलगम के साथ खून का आना / Bleeding with Mucus
➧गले में दर्द और त्वचा पर चकत्ते पड़ जाने पर / Throat Pain and Skin Rashes


➤ Piles Treatment At Home | इन घरेलू उपायों से करें आप बवासीर की समस्या का इलाज

गले में इन्फेक्शन के मुख्य कारण / The main causes of throat infections


जाने क्यों होता है गले में इन्फेक्शन / Throat Infection


आमतौर पर गले में इन्फेक्शन (Throat Infection) बैक्टीरिया या वायरस संक्रमण के कारण हो जाता है। जब आप किसी दूसरे संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आते हैं तो उस व्यक्ति के खासनें, छीकनें तथा बोलने से उस व्यक्ति के मुंह की बूंदे जो हवा में चली जाती है  उससे भी गले का संक्रमण हो सकता है।

गले में बैक्टीरियल इनफेक्शन / Bacterial Infections in the Throat


लोगों में वायरल इनफेक्शन (Viral Infections) के मुकाबले बैक्टीरियल इनफेक्शन बहुत कम ही होता है।

गले में इन्फेक्शन के लक्षण 


स्ट्रैप थ्रोट / Strap throat


गले में बैक्टीरियल इनफेक्शन (Bacterial Infection) का सबसे मुख्य कारण स्ट्रैप थ्रोट है।

काली खांसी / Hooping cough


काली खांसी में लोगों के मुंह से हूं-हूंआवाज निकलती है, जो की काली खांसी का एक प्रमुख लक्षण है।

➤ इन 6 सामान्य लक्षणों से पहचाने लिवर की बीमारी के शुरुआती संकेत, नजरअंदाज करने से लिवर हो सकता है खराब

गले में वायरल इनफेक्शन के लक्षण / Viral Infection in Throat


सर्दी-जुकाम, फ्लू और बच्चों में होने वाले संक्रमण जैसे- चेचक और चिकन पॉक्स।

इन कारणों से बढ़ जाती है गले में इन्फेक्शन की आशंका / Increases Due to these Causes of Throat Infection


लगातार संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में रहना। बच्चे स्कूल या कई जगहों पर संक्रमित बच्चों के साथ रहते हैं, जिस कारण उनमें टॉन्सिल (Tonsil) के रोगाणु आसानी से पहुंच जाते हैं।









Throat Infection,throat infection treatment in ayurveda
Throat Infection

प्रतिरक्षा प्रणाली का कमजोर होना। रोगों के अलावा कई ऐसी दवाई भी होती हैं, जो मानव शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को काफी कमजोर कर देती हैं। जैसे- कैंब्रिज दवा। इस दवा का सेवन थायराइड (Thyroid) बढ़ने के इलाज के लिए किया जाता है।

➤ एंटीबायोटिक दवाओं के सेवन से हो सकती है पेट से संबंधित कई बीमारियां, जाने किससे ज्यादा खतरा

गले के संक्रमण से बचाव / Prevention of Throat Infection



  • यदि आप पूरी तरह से स्वस्थ हैं, तो आपको संक्रमित व्यक्तियों के संपर्क में आने से बचना चाहिए।

  • छीकनें तथा नाक साफ करने के पश्चात आपको अच्छी तरह से साफ करने चाहिए।

  • यदि आपके घर में किसी को भी स्ट्रेप थॉट हो गया हैं, तो उसके बरतन तथा भोजन आदि को शेयर नहीं करना चाहिए।

  • उससे बात करते वक्त आपको अपने मुंह पर कपड़ा या रूमाल रख लेना चाहिए।

  • उसके कपड़ों तथा बर्तन को गर्म पानी से धोना चाहिए।

  • गले के संक्रमण से बचने के लिए आपको अपने खान-पान में भी बदलाव करना चाहिए।

  • जितना हो सके आप पानी पिए पानी पीने से डिहाइड्रेशन (Hydration) समस्या नहीं होगी और आपका गला भी नम बना रहेगा। जिससे आपको खाना निगलने में तकलीफ होगी।



गले के संक्रमण का परीक्षण / Throat Infection Test


डॉक्टरों द्वारा शारीरिक परीक्षण किया जाता है। गले के संक्रमण (Infection) का पता लगाने के लिए गले का परीक्षण करके संक्रमण के कारणों को ढूंढने के लिए नाक व कान की जांच करते हैं। डॉक्टर परीक्षण के दौरान कुछ टेस्ट कराने की जरूरत समझते हैं।

गले के इन्फेक्शन का इलाज / Treatment of Throat Infection



  • पर्याप्त नींद ले। गले का संक्रमण (Throat Infection) होने पर आपको भरपूर मात्रा में नींद लेनी चाहिए।

  • इसके साथ-साथ ही बच्चों को स्कूल से 2-3 दिन की छुट्टी लें। उन्हें पूरा आराम दे।


एंटीबायोटिक / Antibiotics


यदि आप के गले में इन्फेक्शन (Throat Infection) बैक्टीरिया के कारण हुआ है, तो इसे डॉक्टर एंटीबायोटिक दवाओं के इस्तेमाल से पूरी तरह से ठीक कर देते हैं। इन दवाओं से कोई एलर्जी भी नहीं होती है।
Throat Infection,throat infection treatment in ayurveda

तोंसिल्लेक्टोमी / Tonsillectomy


यह एक सर्जिकल प्रक्रिया है, जिसके द्वारा टॉन्सिल (Tonsil) को निकाल दिया जाता है। यदि आपके बच्चों को बार-बार तोंसिल्लेक्टोमी होता है, तो डॉक्टर इसकी सलाह देते हैं।



प्राकृतिक उपचार / Natural Treatment


करें गर्म पानी में नमक डालकर गरारे


गले के इन्फेक्शन (Throat Infection) में राहत पाने के लिए नमक के पानी से गरारे करें। नमक में बहुत ही बेहतरीन एंटीबैक्टीरियल (Antibacterial) गुण पाए जाते हैं। दिन में कम से कम दो-तीन बार नमक के पानी से गरारे करें।

शहद / Honey


गले में सूजन व जलन को कम करने के लिए शहद इस्तेमाल करें। जुकाम के लिए शहद भी बहुत ही बेहतरीन घरेलू उपाय हैं।









Throat Infection,throat infection treatment in ayurveda
Throat Infection

लहसुन / Garlic


लहसुन में कई प्रकार के ऐसे तत्व पाए जाते हैं, जो बैक्टीरिया (Bacteria) को खत्म कर देते हैं और संक्रमण (Infection) पैदा करने वाले कीटाणुओं से लड़ते हैं।

➤ फेफड़े के कैंसर के इन संकेतो को भूलकर भी ना करे नजरअंदाज, साबित हो सकता है जानलेवा

हल्दी वाला दूध / Turmeric milk


हल्दी के दूध पीने से गले के संक्रमण जुकाम तथा खांसी में भी काफी रात होती है। हल्दी का दूध सूजन तथा दर्द को भी काफी कम करता है।

यदि इस पोस्ट से सम्बंधित आपका कोई भी सवाल हो तो आप कमेंट बॉक्स में अपने सवाल कर सकते है । हम जल्द से जल्द आपके सवालों का जवाब देने की पूरी कोशिश करेंगे ।

धन्यवाद !