Breaking News

गर्भ में बच्चा लात क्यों मारता है, वजह जानकर हैरान रह जायेंगे आप, जरूर जानिए


किसी भी महिला के लिए माँ बनना उसके जीवन का सबसे अनमोल समय होता है, इसीलिए महिलाएं गर्भावस्था के समय अपना और अपने होने वाले बच्चे के अच्छे स्वास्थ्य के लिए उपयुक्त काम करती है, जब महिला गर्भवती होती तो उसे चौथे या पांचवे महीने में बच्चा पैर मारना शुरू करता है, ये अनुभव उस महिला के लिए जीवन का सबसे सुखद अनुभव होता है, आपको जानकर हैरानी होगी कि गर्भ में पल रहे बच्चे के द्वारा पैर मारने के तरीके से कई प्रकार के संकेत मलते हैं, इसीलिए इस बारे में जानना बेहद जरूरी होता है, तो आज हम आपको इसी के बारे में बताने जा रहे हैं।

जब गर्भ में पल रहा बच्चा पैर मरना शुरू कर देता है तो ये इस बात का संकेत होता है कि बच्चा पूरी तरह स्वस्थ्य है, और वह अपने आसपास के वातावरण पर प्रतिक्रिया कर रहा है, लेकिन अगर बच्चे के पैर मारने की स्थिति में कमी आ रही है, तो आपको सावधान हो जाना चाहिए, क्योकि ये इस बात का संकेत होता है की बच्चे को ऑक्सीजन भरपूर मात्रा में नहीं मिल पा रहा है, इससे बच्चे के स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव पड़ सकता है।

हम आपको बता दें कि गर्भावस्था के नवें सप्ताह से ही बच्चे का पैर मारना शुरू हो जाता है और 36वें सप्ताह तक चलता रहता है, इसके बाद पैर मारना कुछ कम हो जाता है, क्योकि इस समय तक बच्चे का वजन बढने लगता है, जिससे बच्चा अधिक हिल डुल नहीं पाता है।